Posts

Showing posts from September, 2017

*🌷कुण्डली में होरा का महत्व🌷*

💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥 *वैदिक ज्योतिष में कई वर्ग कुण्डलियों का अध्ययन किया जाता है. कुण्डली का अध्ययन करते समय संबंधित भाव की वर्ग कुण्डली का अध्ययन अवश्य करना चाहिए. जिनमें से कुछ वर्ग कुण्डलियाँ प्रमुख रुप से उल्लेखनीय है.* *होरा कुण्डली से जातक के पास धन-सम्पत्ति का आंकलन किया जाता है. इस कुण्डली को बनाने के लिए 30 अंश को दो बराबर भागों में बाँटते हैं जिसमें  15-15 अंश के दो भाग बनते हैं. कुण्डली को दो भागों में बाँटने पर ग्रह केवल सूर्य या चन्द्रमा की होरा में आती है. कुण्डली दो भागों, सूर्य तथा चन्द्रमा की होरा में बँट जाती है. समराशि में 0 से 15 अंश तक चन्द्रमा की होरा होगी. 15 से 30 अंश तक सूर्य की होरा होगी. विषम राशि में यह गणना बदल जाती है. 0 से 15 अंश तक सूर्य की होरा होगी. 15 से 30 अंश तक चन्द्रमा की होरा होती है.* *उदाहरण के लिए माना मिथुन लग्न 22 अंश का हो तो यह विषम लग्न होगा है. विषम लग्न में लग्न की डिग्री 15 से अधिक है तब होरा कुण्डली में चन्द्रमा की होरा उदय होगी अर्थात होरा कुण्डली के प्रथ

*🌷मंगल के बारह भाव का फल ओर उपाय🌷*

Image
*किसी भी जातक के कुंडली के विभिन्न भावों में नौ ग्रहों की दशा उस जातक के जीवन पर कई प्रकार के प्रभाव डालती है. भावों में जिस प्रकार चंद्रमा की दशा जातक के जीवन को प्रभावित करती है, उसी प्रकार मंगल की दशा भी जातक के स्वभाव का वर्णन करती है. कुंडली के 12 भावों में मंगल की दशा से पता लगता है कि जातक का स्वभाव कैसा होगा और जातक के जीवन में इसका क्या अनुकूल या प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है. ज्योतिष शास्त्र में इन भावों में मंगल की दशा से उत्पन्न विसंगतियों को दूर करने के कुछ सरल उपाय बताए गये हैं. इन उपायों को अपनाकर जातक मंगल के दोष को दूर कर सकता है और जीवन में उत्पन्न परेशानियों को सरल बना सकता है. आइए जानते हैं 12 भावों में मंगल का प्रभाव और दोष निवारण....* *पहले भाव में मंगल* *कुण्डली के प्रथम भाव में अर्थात पहले खाने में मंगल बैठा हो तो जातक झूठा और मक्कार होता है. भाइयों का अनिष्टकारक होता है. इस भाव में मंगल होने से जातक की पत्नी की मृत्यु अग्नि दुर्घटना में होती है. दो विवाह का योग बनता है. जातक की पत्नी रोगग्रस्त होती है. जातक झगड़ालू और लड़ाकू होता है. अगर पहले भाव में मंग

शनि देव की कृपादृष्टि से करें धनार्जन

Image
उड़द का ये उपाय करेंगे तो शनि कृपा से बढ़ सकती है कमाई: --------------------------------------------- ---------------- यदि आपकी कुंडली में शनि या राहु-केतु से संबंधित कोई दोष है तो यहां कुछ उपाय बताए जा रहे हैं। ये उपाय उड़द की दाल से किए जाने हैं। शनि का सीधा असर सभी 12 राशियों पर होता है। ज्योतिष के अनुसार शनि को न्यायाधीश का पद प्राप्त है। वर्तमान में तीन राशियों (कन्या, तुला और वृश्चिक) पर शनि की साढ़ेसाती और दो राशियों (कर्क और मीन) पर शनि की ढय्या चल रही है। इस प्रकार इन पांच राशियों पर शनि का सर्वाधिक असर बना हुआ है। यदि आप भी शनि की कृपा से धन संबंधी परेशानियों से मुक्ति चाहते हैं तो यहां दिए जा रहे उपाय समय-समय पर करते रहें... --------धन लाभ की कामना करते हुए यह उपाय समय-समय पर करें.-------- किसी भी शनिवार की शाम को खड़ी उड़द के एक दाने पर थोड़ा सा दही और सिंदूर लगाएं और उसे किसी भी पीपल के नीचे रख आएं। वापस आते समय पीछे मुड़कर नहीं देखें। यह उपाय शनिवार से ही शुरू करना चाहिए। हर शनिवार यह उपाय करते रहें। निकट भविष्य में शनि कृपा से धन संबंधी कार्य

::: बगलामुखी शाबर मंत्र साधना :::

Image
====================================== माता बगलामुखी के कई शाबर मंत्र मिलते है | ये मंत्र रक्षा कारक, विरोधियो का स्तम्भन , ग्रह बाधा स्तम्भन , वशीकरण आदि प्रयोजन के लिए उत्तम है | शाबर मंत्र की शक्ति गुरु कृपा और व्यक्ति के आत्मबल के साथ उसकी आतंरिक उर्जा से चलती है | मंत्र की शक्ति पूर्व संस्कार और कर्मो पर भी निर्भर करती है | शाबर मंत्र स्वयम सिद्ध होते हैं और इनमें ध्यान प्रधान है | आप जितने गहरे ध्यान में जाकर जप करेगे उतनी शक्ति का प्रवाह होगा | शाबर मंत्र की सिद्धि की कुछ निशानी होती है जैसे जप के दौरान आँखों से पानी आना, निरंतर उबासी आना, सर भरी पड़ना और बहुत सी निशानी हैं जो ज्यादातर लोग जानते नहीं हैं और लम्बे चोडे विधान देते हैं | शाबर मंत्र के लिए यह कहा गया है की १००० जाप पे सिद्धि , ५००० जाप पे उत्तम सिद्धि और १०००० जाप पे महासिद्धि | मंत्र : ॐ मलयाचल बगला भगवती माहाक्रूरी माहाकराली राज मुख बन्धनं , ग्राम मुख बन्धनं , ग्राम पुरुष बन्धनं , काल मुख बन्धनं , चौर मुख बन्धनं , व्याघ्र मुख बन्धनं , सर्व दुष्ट ग्रह बन्धनं , सर्व जन बन्धनं , वशिकुरु हूँ फट स्वाहा || व

वास्तु दोष -के निवारण जाने,,,, कैसे करते हैं।

Image
========================================= घरों में तस्वीर या चित्र लगाने से घर सुंदर दिखता है, परंतु बहुत कम ही लोग यह जानते हैं कि घर में लगाए गए चित्र का प्रभाव वहां रहने वाले लोगों के जीवन पर भी पड़ता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में श्रृंगार, हास्य व शांत रस उत्पन्न करने वाली तस्वीरें ही लगाई जानी चाहिए। घर के अन्दर और बाहर सुन्दर चित्र , पेंटिंग , बेल- बूटे , नक्काशी लगाने से ना सिर्फ सुन्दरता बढती है , वास्तु दोष भी दूर होते है। 1- फल-फूल व हंसते हुए बच्चों की तस्वीरें जीवन शक्ति का प्रतीक है। उन्हें पूर्वी व उत्तरी दीवारों पर लगाना शुभ होता है। इनसे जीवन में खुशहाली आती है। 2- लक्ष्मी व कुबेर की तस्वीरें भी उत्तर दिशा में लगानी चाहिए। ऐसा करने से धन लाभ होने की संभावना अधिक होती है। 3- यदि आप पर्वत आदि प्राकृतिक दृश्यों की तस्वीरें लगाना चाहते हैं तो दक्षिण या पश्चिम दिशा में लगाएं। 4- नदियों-झरनों आदि की तस्वीरें उत्तरी व पूर्वी दिशा में लगाना शुभ होता है। 5- वसुदेव द्वारा बाढग़्रस्त यमुना से श्रीकृष्ण को टोकरी में ले जाने वाली तस्वीर समस्याओ