Friday, December 25, 2020

राजनेता बनने के योग


 

आपकी कुंडली में हैं ये योग, तो आपको बड़ा राजनेता बनाकर छोड़ेगें।


 व्यक्ति जब जन्म लेता है तो उसी समय से उस पर ग्रहों का प्रभाव पडऩा शुरू हो जाता है। ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक हर व्यक्ति के जीवन में जो अच्छे या बुरे परिणाम आते रहते हैं, यह सब ग्रहों का ही प्रभाव होता है।

 ज्योतिषशास्त्र एक ऐसी विद्या है जो लोगों के भूतकाल से लेकर भविष्य तक को उजागर करने में सक्षम है। कुंडली अध्ययन के समय मुख्य पांचों तत्वों (आकाश, जल, पृथ्वी,अग्रि व वायु)के साथ ही नक्षत्र और राशियों को ध्यान में रखा जाता है। इसमें भी गगन या आकाश तत्व को सर्वाधिक महत्व दिया जाता है। 


  किसी की भी कुंडली में लग्न सबसे प्रभावी माना जाता है, क्योंकि यह 'स्व' अर्थात स्वयं को सूचित करता है और इस पर आकाश तत्व का आधिपत्य होता है। जानकारों के मुताबिक ज्योतिषशास्त्र में ग्रहों के योगों का बड़ा महत्व है। पराशर से लेकर जैमनी तक सभी ने ग्रह योग को ज्योतिष फलदेश का आधार माना है। योग के आंकलन के बिना सही फलादेश कर पाना संभव नहीं है।

अपने कुंडली से संबधित और अधिक जानकारी के लिए कृपया पेज को सब्स्क्राइब करें। 

और हमें कमेंट में अपने नाम और फोन नम्बर के साथ कुंडली के डिटेल्स लिखे ,और फ्री में अपनी कुंडली की विवेचना कराये। 

http://astronarayan.com/

 

Saturday, December 19, 2020

बुध अरिष्ट शांति के विशेष उपाय एवं टोटके


〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️

१👉 ब्रह्मी बूटी या तुलसी की जड़ हरे वस्त्र में रखकर बुध के नक्षत्रो (अश्लेशा,ज्येष्ठा, एवं रेवती) में बुध के बीज मंत्र की कम से कम ३ माला जप करने के बाद हरे रंग के धागे में गंगा जल के छींटे लगा कर पुरुष दाहिनी तथा स्त्री बाहिनी भुजा में धारण करने से बुध कृत अरिष्ट की शांति होगी।

२👉 किसी भी शुक्ल पक्ष के  प्रथम बुधवार से शुरू करके लगातार २१ दिन तक श्री विष्णु सहस्रनाम का पाठ नियमित रूप से करें अंतिम दिन उद्यापन में पांच कन्याओं को हरे रंग के वस्त्र ५ फल एवं मिठाई दक्षिणा सहित दान करने से बुध के शुभत्व में वृद्धि होती है।

३👉 विद्या में बाधा या वाणी में दोष होने की स्तिथि में सरस्वती स्त्रोत्र का शुक्ल पक्ष के प्रथम बुधवार से प्रारंभ करके २१ दिन लगातार माँ सरस्वती को इलाईची, मिश्री एवं केले का भोग अर्पण करने के बाद पाठ करने से दोषों की शांति होती है। पाठ के बाद प्रसाद को बाँट कर स्वयं ग्रहण करे। सायं काल तुलसी जी के आगे घी का दीप जलाएं।


५👉 घरेलु कलह-क्लेश की शांति प्रथम नवरात्रे से श्री दुर्गा शप्तशती का पाठ निरंतर ३१ दिन तक करने के बाद कन्या पूजन करना लाभदायक रहता है।

६👉 स्वास्थ्य की दृष्टि से हरे रंग की बोतल में पानी भर कर सूर्य की किरणों में उस पानी को २ पहर तक रखने के बाद पीने से सेहत में लाभ होता है।

७👉 यदि किसी विशेष कार्य में बार-बार विघ्न आते हों तो बुधवार के दिन हरे रंग के कपडे में ६ हरी इलाइची ५ तुलसी के पत्ते, १सुपारी रखकर विष्णु सहस्रनाम का पाठ करते हुए उस पर गुलाब के पत्तो से गंगाजल के छींटे दें। इसके बाद कपडे को गांठ बांध कर पूजा के स्थान में रखें। अंतिम बुधवार में रुमाल अपनी जेब में रख लें एवं धार्मिक स्थानों पर लड्डू का प्रसाद बंटवाने से अड़चने दूर होंगी एवं बिगड़े काम बनेंगे।

८👉 प्रत्येक बुधवार को गौशालाओं में गायों को मीठी रोटी एवं हरा चारा खिलाने से शुभ फल मिलते है।

९👉 विवाह में देरी हो रही हो तो ७ बुधवार मूंग दाल साबुत, मीठा पेठा, हरा नारियल दक्षिणा सहित मंदिर में गणेश जी को अर्पण करने से विघ्न दूर होंगे।

१०👉 बुध यदि अशुभ फल दे रहा है तो बुधवार के दिन धर्म स्थल या विद्यालय में हरे फलदार या फूल वाले या छंयादार वृक्ष लगाना शुभ रहेगा। हरे पौधों को जल देना एवं हरी घास पर नंगे पैर टहलना भी लाभ देता है।

११👉 किसी भी प्रकार की नशीली वस्तु के सेवन से बुध अरिष्ट फल देता है इसलिए इनसे दूर रहें।

१२👉 घर में बुधवार के दिन तुलसी का पौधा गमले में लगा कर इसे थोड़े ऊंचे स्थान पर रखे सायं काल इसके आगे घी का दीपक जलाकर श्री तुलसी स्त्रोत्र का पाठ करे अवश्य लाभ होगा।

१३👉 गणेश चतुर्थी या मासिक संकष्ट गणेश चतुर्थी के दिन व्रत रख कर ११ माला ॐ गं गणपतये नमः का जाप गणेश जी को लड्डू का भोग लगाकर करने से बुध अरिष्ट की शांति होती है।। 

कृपया और अधिक जांनकारी के लिए पेज को फॉलो जरूर करें ,