बुद्ध ग्रह का आपके व्यक्तित्व पर प्रभाव

〰️〰️〰️〰️〰️

मेष👉 बुध हो तो जातक कृश देह वाला, धूर्त, विग्रह प्रिय, नास्तिक, दाम्भिक, मद्यपान करने वाला, जुआरी,,नृत्य संगीत में रूचि रखने वाला, असत्य भाषी ,लिपि का ज्ञाता, परिश्रम से प्राप्त धन को नष्ट करने वाला,रति प्रिय,ऋण व बंधन भोगने वाला,कभी चंचल तो कभी स्थिर स्वभाव का होता है।

वृष👉 बुध  हो तो जातक कार्य में दक्ष, विख्यात, शास्त्र का ज्ञाता, वस्त्र अलंकार व सुगंध प्रेमी, स्थिर प्रकृति,उत्तम स्त्री व धन से युक्त, मनोहर वाणी वाला, हास्य प्रेमी व वचन का पालन करने वाला होता है।

मिथुन👉  बुध हो तो जातक ,बहुत विषयों का ज्ञाता ,शिल्प कला में कुशल,धर्मात्मा,बुद्धिमान, प्रिय भाषी,कवि,अल्प रतिमान, स्वतंत्र, दानी,पुत्र-मित्र युक्त,प्रवक्ता एवम अधिक कार्यों में लीन होता है।

कर्क👉 बुध हो तो जातक प्राज्ञ,विदेश निरत, रति व गीत संगीत में चित्त वाला,स्त्री द्वेष के कारण नष्ट धन वाला,कुत्सित,चंचल,अधिक कार्यों में रत,अपने कुल कि कीर्ति के कारण प्रसिद्ध,बहु प्रलापी जल से धन लाभ प्राप्त करने वाला तथा अपने बन्धु-बांधवों से द्रोह करने वाला होता है।

सिंह👉  बुध हो तो जातक कला व ज्ञान से हीन,असत्यवादी, अल्पस्मृतिवान ,स्वतंत्र,अपने कुल का विरोधी तथा दूसरों को स्नेह करने वाला, दुष्कर्मी,सेवक,संतान सुख से वंचित होता है।

कन्या👉 बुध हो तो जातक धर्म प्रिय, प्रवक्ता, चतुर, लेखक, कवि,विज्ञान-शिल्प निरत, मधुर, पूज्य, अपने गुणों के कारण प्रसिद्ध,अपने कार्य के लिए अनेक युक्तियों का प्रयोग करने वाला तथा उदार होता है।

तुला👉 बुध हो तो जातक शिल्पकार,विवादी, वाक् चतुर,इच्छानुसार व्यय करने वाला,अनेक दिशाओं में व्यापार करने वाला,अतिथि-देव-गुरु-ब्राह्मण भक्त, चापलूस तथा जल्दी ही क्रोधी या शांत हो जाने वाला होता है।

वृश्चिक👉 बुध हो तो जातक परिश्रमी, शोकयुक्त, द्रोही, जुआरी, मद्यपान करने वाला,घमंडी, त्यक्त धर्मा, दुष्ट स्त्री भोक्ता, लज्जाहीन, मूर्ख, लोभी, कपटी, नीच कार्यों में लीन, ऋणी, अधम जनों में प्रीति व दूसरों कि वस्तुओं को लेने वाला होता है।

धनु👉 बुध हो तो जातक विख्यात,यथार्थ वक्ता, उदार, गुणी, शास्त्र का ज्ञाता, वीर, शील, मंत्री, पुरोहित, कुल में प्रधान, महापुरुष, अध्यापक, वाक् चतुर, दानी व्रती, व लेखक होता है।

मकर👉 बुध हो तो जातक, अधम, मूर्ख, नपुंसक, कुल के गुणों से रहित, दुखी,स्वप्न में विहार करने वाला,चुगलखोर, असत्यवादी, अस्थिर, ऋणी, डरपोक, मलिन व बंधुओं से त्यक्त होता है।

कुम्भ👉 बुध हो तो जातक करे हुए कार्य का त्यागी, शत्रुपीड़ित, अपवित्र, डरपोक, भाग्यहीन, दूसरों कि आज्ञा का पालन करने वाला, नपुंसक होता है।

मीन👉  बुध हो तो जातक निर्धन विदेश वासी, सिलाई के काम में निपुण, विज्ञान व कला से हीन, परधन संचय में दक्ष, सज्जनों का प्रेमी होता है।


http://astronarayan.com/

Comments

Popular posts from this blog

*खुद का घर कब और कैसा होगा-*

शिव भक्त राहु

वास्तु दोष -के निवारण जाने,,,, कैसे करते हैं।