Successful businessman.

  
व्‍यापारी वर्ग अक्‍सर अपने मुनाफे और नुकसान को लेकर आशंकित रहता है। खासतौर पर जब बात किसी नए कारोबार को शुरू करने की हो तो यह टेंशन और भी बढ़ जाती है। 

लेकिन हस्‍तरेखा शास्‍त्र में इसका बड़ा सीधा सा उपाय बताया गया है। यानी कि बिना किसी ज्‍योतिषी के पास जाए आप खुद ही अपने हाथ की रेखाओं को देखकर अपने व्‍यापार का भविष्‍य जान सकते हैं। 

तो अगर आप भी किसी नए व्‍यवसाय को शुरू करने के बारे में सोच रहे हैं तो एक बार अपनी हथेलियों पर इन रेखाओं को जरूर देख लें।

यदि आपकी ह‍थेली पर शनि ग्रह कमजोर हो तो यह शुभ संकेत नहीं होता है। साथ ही यदि शनि की ऊंगली भी ठीक न हो और शुक्र उठा हुआ तो यह व्‍यापार में घाटे का संकेतक होता है।

 हस्‍तरेखा शास्‍त्र के मुताबिक कभी भी यदि यह संकेत आपके हाथ में दिखें तो कोई भी नया व्‍यापार शुरू करने से बचना चाहिए। वहीं व्‍यवसाय कर रहे हों तो हानि के सापेक्ष पहले से इंतजाम कर लेने चाहिए।

हस्‍तरेखा शास्‍त्र के मुताबिक यदि हथेलियों में हृदयरेखा मस्तिष्‍क रेखा पर जा रही हो तो यह व्‍यवसाय के लिए अच्‍छा संकेत नहीं होता। 

यदि आपके साथ ऐसा हो तो नया कारोबार शुरू करने से बचें। इसका अर्थ होता है कि व्‍यवसाय में धीरे-धीरे आर्थिक समस्‍याओं का सामना करना पड़ेगा। साथ ही ऐसी रेखा व्‍यवसाय की उन्‍नति में भी बाधक होती है। 

यही वजह है कि हृदयरेखा के मस्तिष्‍क रेखा पर जाने के संकेत को देखकर ही विद्वानजन कोई भी नया कारोबार शुरू करने की मनाही करते हैं।

यदि आप कोई नया व्‍यवसाय शुरू करने जा रहे हैं और आपकी हाथ की भाग्‍यरेखा और जीवनरेखा खंडित हो तो यह शुभ संकेत नहीं होता है। 

हस्‍तरेखा शास्‍त्र की मानें तो ऐसी रेखा होने पर कोई नया कारोबार शुरू करने से बचना चाहिए। ऐसी रेखाएं व्‍यापार में आए दिन परेशानियां खड़ी करती हैं। यानी कि गाहे-बगाहे आर्थिक हानि होती ही रहती है।

 साथ ही विरोधी पक्ष लगातार आपको परेशान करते रहते हैं। अगर आपके हाथ में भी ऐसी रेखा हो तो नया व्‍यवसाय शुरू करने से बचें।

यदि आपका हाथ पतला और सख्‍त हो तो भी व्‍यवसाय में कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। हस्‍तरेखा शास्‍त्र के मुताबिक यह अच्‍छा संकेत नहीं होता है।

 इसका अर्थ होता है कि व्‍यक्ति के व्‍यापार पर किसी विरोधी पक्ष की नजर है और वह लगातार नुकसान पहुंचाने के प्रयास करता ही रहेगा।

 इससे सामने वाले की कार्यक्षमता भी प्रभावित होगी और व्‍यापार में लगातार नुकसान होने की भी संभावनाएं बढ़ जाती हैं।

हस्‍तरेखा शास्‍त्र के मुताबिक यदि किसी व्‍यक्ति का हाथ भारी हो और भाग्‍यरेखा लहरदार हो तो यह शुभ संकेत नहीं होता। इसका अर्थ होता है कि व्‍यक्ति विशेष के व्‍यापार पर किसी की कुदृष्टि है।

 इसके चलते आप अपना व्‍यवसाय बेहतर तरीके से नहीं चला पाएंगे। कहा जाता है कि ऐसी रेखा वाले व्‍यक्ति तमाम प्रयास करने के बावजूद भी व्‍यापार को आर्थिक गति नहीं दे पाएंगे।

अगर ऐसी रेखाएं हाथ में हो तो नया व्‍यवसाय शुरू करने से बचना चाहिए। साथ ही व्‍यवसाय कर रहे हों आर्थिक नुकसान से बचने के लिए रास्‍ते जरूर तलाश लेने चाहिए।

और अधिक जानकारी परामर्श हस्तरेखा से जुड़ा हुआ सलाह या यंत्र मंत्र तंत्र से जुड़ा हुआ परामर्श या कुंडली दिखाने के लिए या भविष्यफल की जानकारी या कुंडली बनवाने के लिए संपर्क करें ...

 सम्पर्क सूत्र - +91-8788381356
परामर्श शुल्क 351 रू
           

Comments

Popular posts from this blog

*खुद का घर कब और कैसा होगा-*

शिव भक्त राहु

वास्तु दोष -के निवारण जाने,,,, कैसे करते हैं।