प्रेम विवाह


एक जमाना था जब समाज स्वीकार नहीं करता था प्रेम विवाह को
आज है कि रोजमर्रा की बात है, समाज स्वीकार कर रहा है
लेकिन ये जानना जरूरी है कि किसका प्रेम विवाह सफल होगा और किसका नहीं
तो विवाह से पहले एक दोस्ती का दौर चलता है
लडकी के लिये उसका दोस्त मंगल है
लडके के लिये उसकी दोस्त बुध है
और शादी के बाद गृहस्थी का सुख कारक शुक्र है
तो जिनकी भी कुंडलियों में मंगल, शुक्र और बुध किसी भी तरह से संबंधित होते हैं वो विपरीत लिंगी की तरफ सहज ही खिंचते है
अब अगर इसमें मंगल या बुध खराब हुये तो कुंडली में शुक्र कितना ही शुभ हो, गृहस्थी में समस्या आनी ही आनी है
अब अलगाव न भी हो तो कोई और आर्थिक, शारीरिक या कोई और समस्या पैदा हो जायेगी जो गृहस्थ जिंदगी का मजा न लेने देगा |
मंगल जहां शरीर और पैसे से मारता है वहीं बुध बेकार के झगडे लगाकर दूरियां बढा देता है 
इसलिये, सावधान रहें और प्रेम विवाह से पूर्व अपनी कुंडली का अवलोकन अवश्य करवायें |
जिनकी कुंडली में प्रेम विवाह शुभ फल दे रहा हो वो प्रेम विवाह अवश्य करें चाहे जमाना बैरी हो जाये
क्योंकि प्रकृति के कुछ नियम हैं और आपकी जिंदगी के प्राकृतिक नियम आपकी कुंडली में छिपे हुये हैं, जो मनुष्य के कर्मानुसार सबके लिये अलग अलग हैं |

WhatsApp&call no:---: +918788381356
https://www.narayanjyotishparamarsh.com

Comments

Popular posts from this blog

*खुद का घर कब और कैसा होगा-*

वास्तु दोष -के निवारण जाने,,,, कैसे करते हैं।

शिव भक्त राहु