तुलसी का पौधा पवित्र और पूजनीय माना गया है। जाने कैसे??

शास्त्रों के अनुसार तुलसी का पौधा पवित्र और
पूजनीय माना गया है। जिन लोगों के घर में
तुलसी का पौधा होता है उन्हें कई प्रकार के
चमत्कारी फायदें प्राप्त होते हैं। यहां दी
गई तस्वीरों से जानिए घर में तुलसी होने के
चमत्कारी फायदें-
तुलसी को संजीवनी
बूटी भी कहा जाता है। इसका उपयोग कई
प्रकार की औषधियों में किया जाता है।
तुलसी के पत्ते भोजन को शुद्ध और पवित्र करते हैं।
इसीलिए सूर्य ग्रहण या चंद्र ग्रहण के समय भोजन
में तुलसी के पत्ते डालें जाते हैं।
शास्त्रों के अनुसार इंसान की मृत्यु के बाद शव के मुख
में तुलसी के पत्ते डाले जाते हैं। इस संबंध में ऐसा माना
जाता है कि इससे मृत व्यक्ति को मोक्ष प्राप्त होता है।
तुलसी घर-आंगन में होने से वातावरण शुद्ध और
पवित्र बना रहता है। इस पौधे से कई प्रकार के वास्तु दोष
भी समाप्त हो जाते हैं।
जिस घर में तुलसी का पौधा होता है वहां
सभी देवी-देवताओं की कृपा
बरसती है। घर-परिवार के सदस्यों की
नकारात्मक ऊर्जा से रक्षा होती है।
तुलसी के पौधे में प्रतिदिन पानी देने और
उसकी कांट-छांट करने, उसका ध्यान रखने से त्वचा
संबंधी कई बीमारियां में लाभ होता है।
तुलसी के पत्तों को दांतों से चबाकर नहीं
खाना चाहिए, बल्कि उसे निगल लेना चाहिए। तुलसी के
पत्तों में एक विशेष प्रकार का अम्ल होता है जो कि हमारे दांतों के
लिए अच्छा नहीं होता।
पानी में तुलसी के पत्ते डालकर
पीने से पानी एक टॉनिक का काम करता है।
इससे कई प्रकार के रोगों में राहत मिलती है।
तुलसी के पत्ते का नियमित रूप से सेवन करने पर
व्यक्ति को कभी भी खून की
कमी का सामना नहीं करना पड़ता है।
बिना उपयोग तुलसी के पत्ते कभी
नहीं तोडऩा चाहिए। ऐसा करने पर व्यक्ति को दोष
लगता है। अनावश्यक रूप से तुलसी के पत्ते तोडऩा
तुलसी को नष्ट करने के समान माना गया है।
जब तुलसी का पौधा सुख जाए तो क्या और क्यों करना
चाहिए?
अधिकांश हिंदू घरों में तुलसी का पौधा अवश्य
ही होता है। तुलसी घर के आंगन में
लगाने की प्रथा हजारों साल पुरानी है।
तुलसी को दैवी का रूप माना जाता है। साथ
ही मान्यता है कि तुलसी का पौधा घर में
होने से घर वालों को बुरी नजर प्रभावित
नहीं कर पाती और अन्य बुराइयां
भी घर और घरवालों से दूर ही
रहती है।
तुलसी का पौधा होने से घर का वातावरण
पूरी तरह पवित्र और कीटाणुओं से मुक्त
रहता है। कभी-कभी किसी
कारण से यह पौध सूख भी जाता है ऐसे में इसे घर में
नहीं रखना चाहिए बल्कि इसे किसी पवित्र
नदी में प्रवाहित करके दूसरा तुलसी का
पौधा लगा लेना चाहिए। सुखा हुआ तुलसी का पौधा घर में
रखना कई परिस्थितियों में अशुभ माना जाता है। इससे विपरित परिणाम
भी प्राप्त हो सकते हैं। घर की बरकत
पर बुरा असर पड़ सकता है। इसी वजह से घर में
हमेशा पूरी तरह स्वस्थ तुलसी का पौधा
ही लगाया जाना चाहिए।
तुलसी का धार्मिक महत्व तो है ही
लेकिन विज्ञान के दृष्टिकोण से तुलसी एक औषधि है।
आयुर्वेद में तुलसी को
संजीवनी बुटि के समान माना जाता है।
तुलसी में कई ऐसे गुण होते हैं जो बड़ी-
बड़ी जटिल बीमारियों को दूर करने और
उनकी रोकथाम करने में सहायक है।
तुलसी का पौधा घर में रहने से उसकी
सुगंध वातावरण को पवित्र बनाती है और हवा में मौजूद
बीमारी के बैक्टेरिया आदि को नष्ट कर
देती है। तुलसी की सुंगध
हमें श्वास संबंधी कई रोगों से बचाती है।
साथ ही तुलसी की एक
पत्ती रोज सेवन करने से हमें कभी बुखार
नहीं आएगा और इस तरह के सभी रोग
हमसे सदा दूर रहते हैं। तुलसी की
पत्ती खाने से हमारे शरीर की
रोगप्रतिरोधक क्षमता काफी बढ़ जाती है।
छोटे से गमले में कैसे उगाएं तुलसी
तुलसी का पौधा हमारे घरों के लिए बहुत मायने रखता
है, साथ ही यह भारत के हर घर में पाया
भी जाता है। तुलसी ना केवल
पूजी जाती है बल्कि अगर इसे चाय में मिला
कर पिया जाए तो सर्दी-जुखाम जैसी
छोटी-मोटी बीमारियां
भी दूर हो जाती हैं। आज हम आपको
तुलसी के पौधे को ठीक ढ़ंग से गमले या छोटे
से कंटेनर में लगाना सिखाएगें। इसकी देखभाल करना
बहुत ही आसान काम है।
ऐसे करें तुलसी की देखभाल
1. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि
तुलसी के पौधे दो प्रकार के होते हैं, लाल और सफेद।
यह 15-18 इंच तक बढ़ सकते हैं इसलिए इनको उगाने के लिए
केवल 6 इंच का गमला या कंटेनर ही काफी
होता है।
2. इन पौधों को थोड़ी ही धूप
की जरूरत होती है जिससे आप इनको
अपने घर के अंदर ही रख सकती हैं।
एक हरे-भरे पौधे के लिए केवल 8 घंटे की
हल्*की लाइट ही काफी
होती है।
3. तुलसी के पौधे को उगाने वाले गमले में केवल जैविक
खाद, पानी और धूप की ही
जरुरत पड़ती है। पेड़ लगाते वक्*त मिट्टी
थोड़ी सी ढीली
होनी चाहिये जिससे उसकी जड़े
ठीक से मिट्टी में लग जाएं।
4. इस पौधे में ज्*यादा पानी देने की
आवश्*यकता नहीं होती है। आपको
केवल इतना देखना है कि मिट्टी हमेशा
गीली रहे बस।
5. तुलसी की खासियत होती
है कि वह मच्*छरों और कीटाणुओं को दूर
भगाती है, इसलिए अगर आप इसे अपने घर के दरवाज़े
के पास रखेगें तो आपका परिवार कीट से बचा रहेगा।
6. पेड़ में ज्*यादा खाद न मिलाएं वरना वह पेड़ को खराब कर देगा
साथ ही यह दिन भर धूप खाता रहे इसलिए इसको
साउथ या नार्थ कोने में रखें।

जय श्री नारायण।
     पँ अभिषेक कुमार
   9472998128

Comments

Popular posts from this blog

*खुद का घर कब और कैसा होगा-*

शिव भक्त राहु

वास्तु दोष -के निवारण जाने,,,, कैसे करते हैं।