Skip to main content

सफलता के सूत्र आपके पास हैं








असंभव कुछ भी नहीं
=============
कहा जाता है की दुनिया में असंभव कुछ भीनहीं ,अगर मजबूत आत्मबल हो तो |यह भाषाअक्सर कर्म में विश्वास करने वाले कर्मयोगीकरते है ,जबकि भाग्यवादी अक्सर भाग्य परभरोसा करते हैं |भाग्य होता है और बेहदमहत्वपूर्ण भी होता है ,किन्तु वह भी कर्म सेप्रभावित होता है |राज कुल में जन्मा व्यक्तिभाग्य से ऐसे कुल में जन्मता है किन्तु फिर भीअपने कर्म से पतन को प्राप्त हो जाता है,जबकि भिखारी के यहाँ पैदा होने वाला थोड़े सेअवसर पाते ही अपने कर्म के बल पर बेहदशक्तिशाली और वैभव संपन्न हो जाता है |कहनेका तात्पर्य है की भाग्य जन्म और उसके कुछसमय तक तो बहुत प्रभावी हो सकता है किन्तुकर्म का समय शुरू होते ही वह कर्म से प्रभावितहोने लगता है |
हमारा विषय धर्म और अध्यात्म ,साधना औरशक्ति से सम्बंधित है अतः हम इस विषय पर हीकेन्द्रित रहते हैं |अक्सर हम सुनते हैं की लोगकहते मिलते हैं की हमने इतने समय तक ,इतनीदेर तक पूजा की ,साधना की ,इनइन मंदिरों मेंगए ,यहाँयहाँ मत्था टेका पर कुछ नहीं हुआ |भगवान् ने नहीं सुना |भगवान् भी गरीबोंदुखियों की नहीं सुनता ,आदि आदि अनेक बातेंसुनने को मिल जाती हैं |किन्तु यह सब सत्यनहीं हैं |भगवान् सबकी सुनता है ,पर उसे सुनानेके लिए अंतर्मन की आवाज चाहिए |मंदिरों मस्जिदों में सर झुकाने मात्र से वह नहीं सुनलेगा |ऐसा तो अक्सर उसकी शक्ति के डर सेउत्पन्न आस्था और अपने स्वार्थ की भावना सेउत्पन्न कामना के कारण ही अधिकतर लोगकरते है |कितने लोग होते हैं जो बिना भय केअथवा बिना स्वार्थ के सर झुकाते हैं |इसीतरहपूजाआराधना के समय सम्बंधित शक्ति यादेवता पर मन एकाग्र नहीं है तो उस तकआपकी आवाज नहीं पहुचती ,क्योकि वहआपके मन से सुनता है मुह से नहीं ,उस तकआपकी भावना पहुचती है आवाज नहीं |आवाजकी अपनी शक्ति होती है पर बिना भावना के वहभी बिखर जाती है |भावना श्रद्धा के साथ मनकी एकाग्रता पर ही मन्त्रों की ऊर्जा भी ईष्ट तकपहुचती है ,केवल मंत्र अथवा वाणी की आवाजतो वातावरण में बिखर कर रह जाती है |
व्यक्तिगत अनुभव के आधार पर हम कह सकतेहैं की ,यदि कोई कहता है की पूजापाठ,साधनाअनुष्ठान करने पर भी कुछ नहीं हुआ,तो निश्चित रूप से कमी खुद करने वाले केअन्दर है |यद्यपि हम बहुत बड़े साधक नहीं ,साधूनहीं ,तपस्वी या सन्यासी नहीं ,किन्तु अपनेअनुभवों से पाया है की ईश्वर जरुर सुनता है |आप में वह शक्ति और आत्मबल चाहिए कीआप उसे सूना सकें |हम सामान्य गृहस्थ होने केबाद भी कहने की स्थिति में हैं की ईश्वर मेंआपकी श्रद्धाउसमे विश्वाससही तकनीक काज्ञान ,पूर्ण समर्पण और खुद का आत्मबल है तोउसकी ऊर्जा अवश्य आकर्षित होती है और वहआपकी सुनता भी है |दुसरे की तो बात ही क्या,पर हमने खुद के यहाँ पाया है की बच्चों की भीपूर्ण श्रद्धा से की गयी कामना पूर्ण होती है |खुदके यहाँ स्थापित सामान्य सी भगवती के चित्र केसामने आज तक परिवार के किसी भी सदस्यद्वारा व्यक्त की गयी कोई कामनाअगर वहसम्बंधित शक्ति के अंतर्गत आती है असफलनहीं हुई |ऐसा शायद उस स्थान पर साधना होनेऔर स्थान के भगवती की ऊर्जा से संतृप्त होनेके कारण होता है अथवा सम्बंधित सदस्य कीअगाध श्रद्धा के कारण |पर पूरा होता है |कभीकभी तो तक्षण परिणाम मिलता है यह जरुरपाया है की अगर शक्ति की प्रकृति से भिन्नआपकी कामना है तो वह पूर्ण होने में संदेह होजाता है |काली से अगर आप रुपयेपैसे कीकामना करते हैं तो संदेह हो जायेगा उसके पुरेहोने में |अब तक खुद कभी नहीं पाया की जिसउद्देश्य से अनुष्ठान किया हो वह पूरा  हुआ हो |इसलिए आज यह कहने की स्थिति पाते हैं कीईश्वरीय ऊर्जा की प्राप्ति और मनोकामना पूर्तीअसंभव नहीं |जरुरत आपके सही प्रयास की है |किसी को कहते सुना की इतनी देर ,इतने समयसे पूजा किया किन्तु कुछ समझ में नहीं आया |तभी इस पोस्ट को लिखने की प्रेरणा मिली ,कीऐसा नहीं है भाई |कमी हममे हो सकती है |खुदकी और तो देखें |
यहाँ एक समस्या होती है |आप पूजा दुर्गाकाली की कर रहे हैं और कामना धन रुपयेप्रेम आदि की कर रहे हैं |ऐसे में आपकी कामनापूरी तरह पूर्ण हो पाएगी इसमें संदेह हो सकताहै |यद्यपि यह शक्तियां जगत्जननी और सर्वोच्चशक्तियां हैं ,पर फिर भी इनकी एक निश्चितआकृति और गुण बनाये गए हैं |इन्ही गुणों केअनुसार मंत्र रचना और पूजापद्धति बनाई गयीहै |इस प्रकार एक निश्चित प्रकार की ऊर्जाउत्पन्न होती है और उसी तरह की ऊर्जा काआकर्षण होता है |ऐसे में जब आप उग्र शक्ति सेकोमलता अथवा रुपये आदि की कामना करतेहैं तो उसे अपने प्रकृति के विरुद्ध कार्य करने मेंदिक्कत आती है और उसके लिए मुश्किल होतीहै की आपकी कामना की दिशा में वह कार्य करे,यद्यपि वह उर्जा लगती जरुर है उस दिशा में परप्रकृति भिन्न होने से अपेक्षित परिणाम मुश्किलहोता है |ऐसे कार्यों के लिए उसी शक्ति का वहरूप जो ऐसे कार्यों के लिए ही बना है [लक्ष्मीकमलामातंगीअधिक उपयुक्त होता है |किन्तुहम इसका ध्यान नहीं रखते |हनुमान जी सेकन्या और प्रेम की कामना करते हैं जो उनकीप्रकृति से ही भिन्न है |अगर हम शक्ति [ईश्वरकीप्रकृति के अनुरूप अपनी कामना रखकरसाधनापूजाअनुष्ठान करें और आस्था अट्टूरखकर लगे रहें तो सफलता जरुर मिलती है |
अगर आप चाह ही लें की ईश्वरीय ऊर्जा आनीही चाहिए ,ईश्वर को अपनी भावनाकामनासुनानी है |ईश्वर या शक्ति को अपने तक बुलानाहै ,उससे अपने लिए सहायता लेनी ही है ,तो यहअसंभव नहीं है |सबकुछ संभव है |जरुरत खुदको उठाकर सम्बंधित लक्ष्य को अपने हीअवचेतन तक ले जाने की जरुरत है |जब आपगहन विश्वास से ,पूर्ण आत्मबल से ,पूर्ण आस्थासे ,उपयुक्त तकनीक को जानकार लक्ष्य कीदिशा में प्रयास करते हैं तो आपके प्रयास अर्थातअवचेतन ,चेतन मन से ,मानसिक शक्ति से,श्रद्धा ,विश्वास आस्था से उत्पन्न बल से ऐसीतरंगे निकलती हैं जो प्रकृति में सन्देश प्रसारितकरती हैं और प्राकृतिक ऊर्जा ,प्रकृति कीशक्तियां ,आप द्वारा उपासित शक्ति आपकी ओरआकर्षित होने लगती हैं |धीरे धीरे यह सब ऊर्जाया शक्ति सम्मिलित हो आपके लक्ष्यपूर्ति मेंसहयोग करने लगती हैं ,अनुकूल वातावरणबनाने लगती हैं ,आपकी मानसिक उर्जा सेतालमेल बनाने वाली ऊर्जा से आपके आसपासका वातावरण और आपके शरीर का रासायनिकसंचालन संतृप्त होने लगता है |इस प्रकारवातावरण भी सहायक होने लगता है औरआपका व्यक्तित्व ,कार्यशैली भी परिवर्तित औरअधिक लक्ष्य केन्द्रित होने लगता है जिससेआपका लक्ष्य आपको प्राप्त होता है |अगरसंसार में कोई समस्या है तो उसका हल भीप्रकृति पहले से निर्मित रखती है |आपके प्रयाससे वह हल आपको मिल जाता है ,अधूरे प्रयाससे नही मिलता ,जानकारी के अभाव में नहींमिलता ,,इसका यह मतलब नहीं की हल नही है|मतलब यह होता है की आपका प्रयास पूर्ण नहींहै |इसलिए ही कहा गया है ,व्यक्ति चाह ले तोअसंभव कुछ भी नहीं |[[[व्यक्तिगत विचार अपने blog  Tantra Marg के पाठकों सेसाझा ]]]
असंभव कुछ भी नहीं
=============
कहा जाता है की दुनिया में असंभव कुछ भीनहीं ,अगर मजबूत आत्मबल हो तो |यह भाषाअक्सर कर्म में विश्वास करने वाले कर्मयोगीकरते है ,जबकि भाग्यवादी अक्सर भाग्य परभरोसा करते हैं |भाग्य होता है और बेहदमहत्वपूर्ण भी होता है ,किन्तु वह भी कर्म सेप्रभावित होता है |राज कुल में जन्मा व्यक्तिभाग्य से ऐसे कुल में जन्मता है किन्तु फिर भीअपने कर्म से पतन को प्राप्त हो जाता है,जबकि भिखारी के यहाँ पैदा होने वाला थोड़े सेअवसर पाते ही अपने कर्म के बल पर बेहदशक्तिशाली और वैभव संपन्न हो जाता है |कहनेका तात्पर्य है की भाग्य जन्म और उसके कुछसमय तक तो बहुत प्रभावी हो सकता है किन्तुकर्म का समय शुरू होते ही वह कर्म से प्रभावितहोने लगता है |
हमारा विषय धर्म और अध्यात्म ,साधना औरशक्ति से सम्बंधित है अतः हम इस विषय पर हीकेन्द्रित रहते हैं |अक्सर हम सुनते हैं की लोगकहते मिलते हैं की हमने इतने समय तक ,इतनीदेर तक पूजा की ,साधना की ,इनइन मंदिरों मेंगए ,यहाँयहाँ मत्था टेका पर कुछ नहीं हुआ |भगवान् ने नहीं सुना |भगवान् भी गरीबोंदुखियों की नहीं सुनता ,आदि आदि अनेक बातेंसुनने को मिल जाती हैं |किन्तु यह सब सत्यनहीं हैं |भगवान् सबकी सुनता है ,पर उसे सुनानेके लिए अंतर्मन की आवाज चाहिए |मंदिरों मस्जिदों में सर झुकाने मात्र से वह नहीं सुनलेगा |ऐसा तो अक्सर उसकी शक्ति के डर सेउत्पन्न आस्था और अपने स्वार्थ की भावना सेउत्पन्न कामना के कारण ही अधिकतर लोगकरते है |कितने लोग होते हैं जो बिना भय केअथवा बिना स्वार्थ के सर झुकाते हैं |इसीतरहपूजाआराधना के समय सम्बंधित शक्ति यादेवता पर मन एकाग्र नहीं है तो उस तकआपकी आवाज नहीं पहुचती ,क्योकि वहआपके मन से सुनता है मुह से नहीं ,उस तकआपकी भावना पहुचती है आवाज नहीं |आवाजकी अपनी शक्ति होती है पर बिना भावना के वहभी बिखर जाती है |भावना श्रद्धा के साथ मनकी एकाग्रता पर ही मन्त्रों की ऊर्जा भी ईष्ट तकपहुचती है ,केवल मंत्र अथवा वाणी की आवाजतो वातावरण में बिखर कर रह जाती है |
व्यक्तिगत अनुभव के आधार पर हम कह सकतेहैं की ,यदि कोई कहता है की पूजापाठ,साधनाअनुष्ठान करने पर भी कुछ नहीं हुआ,तो निश्चित रूप से कमी खुद करने वाले केअन्दर है |यद्यपि हम बहुत बड़े साधक नहीं ,साधूनहीं ,तपस्वी या सन्यासी नहीं ,किन्तु अपनेअनुभवों से पाया है की ईश्वर जरुर सुनता है |आप में वह शक्ति और आत्मबल चाहिए कीआप उसे सूना सकें |हम सामान्य गृहस्थ होने केबाद भी कहने की स्थिति में हैं की ईश्वर मेंआपकी श्रद्धाउसमे विश्वाससही तकनीक काज्ञान ,पूर्ण समर्पण और खुद का आत्मबल है तोउसकी ऊर्जा अवश्य आकर्षित होती है और वहआपकी सुनता भी है |दुसरे की तो बात ही क्या,पर हमने खुद के यहाँ पाया है की बच्चों की भीपूर्ण श्रद्धा से की गयी कामना पूर्ण होती है |खुदके यहाँ स्थापित सामान्य सी भगवती के चित्र केसामने आज तक परिवार के किसी भी सदस्यद्वारा व्यक्त की गयी कोई कामनाअगर वहसम्बंधित शक्ति के अंतर्गत आती है असफलनहीं हुई |ऐसा शायद उस स्थान पर साधना होनेऔर स्थान के भगवती की ऊर्जा से संतृप्त होनेके कारण होता है अथवा सम्बंधित सदस्य कीअगाध श्रद्धा के कारण |पर पूरा होता है |कभीकभी तो तक्षण परिणाम मिलता है यह जरुरपाया है की अगर शक्ति की प्रकृति से भिन्नआपकी कामना है तो वह पूर्ण होने में संदेह होजाता है |काली से अगर आप रुपयेपैसे कीकामना करते हैं तो संदेह हो जायेगा उसके पुरेहोने में |अब तक खुद कभी नहीं पाया की जिसउद्देश्य से अनुष्ठान किया हो वह पूरा  हुआ हो |इसलिए आज यह कहने की स्थिति पाते हैं कीईश्वरीय ऊर्जा की प्राप्ति और मनोकामना पूर्तीअसंभव नहीं |जरुरत आपके सही प्रयास की है |किसी को कहते सुना की इतनी देर ,इतने समयसे पूजा किया किन्तु कुछ समझ में नहीं आया |तभी इस पोस्ट को लिखने की प्रेरणा मिली ,कीऐसा नहीं है भाई |कमी हममे हो सकती है |खुदकी और तो देखें |
यहाँ एक समस्या होती है |आप पूजा दुर्गाकाली की कर रहे हैं और कामना धन रुपयेप्रेम आदि की कर रहे हैं |ऐसे में आपकी कामनापूरी तरह पूर्ण हो पाएगी इसमें संदेह हो सकताहै |यद्यपि यह शक्तियां जगत्जननी और सर्वोच्चशक्तियां हैं ,पर फिर भी इनकी एक निश्चितआकृति और गुण बनाये गए हैं |इन्ही गुणों केअनुसार मंत्र रचना और पूजापद्धति बनाई गयीहै |इस प्रकार एक निश्चित प्रकार की ऊर्जाउत्पन्न होती है और उसी तरह की ऊर्जा काआकर्षण होता है |ऐसे में जब आप उग्र शक्ति सेकोमलता अथवा रुपये आदि की कामना करतेहैं तो उसे अपने प्रकृति के विरुद्ध कार्य करने मेंदिक्कत आती है और उसके लिए मुश्किल होतीहै की आपकी कामना की दिशा में वह कार्य करे,यद्यपि वह उर्जा लगती जरुर है उस दिशा में परप्रकृति भिन्न होने से अपेक्षित परिणाम मुश्किलहोता है |ऐसे कार्यों के लिए उसी शक्ति का वहरूप जो ऐसे कार्यों के लिए ही बना है [लक्ष्मीकमलामातंगीअधिक उपयुक्त होता है |किन्तुहम इसका ध्यान नहीं रखते |हनुमान जी सेकन्या और प्रेम की कामना करते हैं जो उनकीप्रकृति से ही भिन्न है |अगर हम शक्ति [ईश्वरकीप्रकृति के अनुरूप अपनी कामना रखकरसाधनापूजाअनुष्ठान करें और आस्था अट्टूरखकर लगे रहें तो सफलता जरुर मिलती है |
अगर आप चाह ही लें की ईश्वरीय ऊर्जा आनीही चाहिए ,ईश्वर को अपनी भावनाकामनासुनानी है |ईश्वर या शक्ति को अपने तक बुलानाहै ,उससे अपने लिए सहायता लेनी ही है ,तो यहअसंभव नहीं है |सबकुछ संभव है |जरुरत खुदको उठाकर सम्बंधित लक्ष्य को अपने हीअवचेतन तक ले जाने की जरुरत है |जब आपगहन विश्वास से ,पूर्ण आत्मबल से ,पूर्ण आस्थासे ,उपयुक्त तकनीक को जानकार लक्ष्य कीदिशा में प्रयास करते हैं तो आपके प्रयास अर्थातअवचेतन ,चेतन मन से ,मानसिक शक्ति से,श्रद्धा ,विश्वास आस्था से उत्पन्न बल से ऐसीतरंगे निकलती हैं जो प्रकृति में सन्देश प्रसारितकरती हैं और प्राकृतिक ऊर्जा ,प्रकृति कीशक्तियां ,आप द्वारा उपासित शक्ति आपकी ओरआकर्षित होने लगती हैं |धीरे धीरे यह सब ऊर्जाया शक्ति सम्मिलित हो आपके लक्ष्यपूर्ति मेंसहयोग करने लगती हैं ,अनुकूल वातावरणबनाने लगती हैं ,आपकी मानसिक उर्जा सेतालमेल बनाने वाली ऊर्जा से आपके आसपासका वातावरण और आपके शरीर का रासायनिकसंचालन संतृप्त होने लगता है |इस प्रकारवातावरण भी सहायक होने लगता है औरआपका व्यक्तित्व ,कार्यशैली भी परिवर्तित औरअधिक लक्ष्य केन्द्रित होने लगता है जिससेआपका लक्ष्य आपको प्राप्त होता है |अगरसंसार में कोई समस्या है तो उसका हल भीप्रकृति पहले से निर्मित रखती है |आपके प्रयाससे वह हल आपको मिल जाता है ,अधूरे प्रयाससे नही मिलता ,जानकारी के अभाव में नहींमिलता ,,इसका यह मतलब नहीं की हल नही है|मतलब यह होता है की आपका प्रयास पूर्ण नहींहै |इसलिए ही कहा गया है ,व्यक्ति चाह ले तोअसंभव कुछ भी नह है।

जय श्री नारायण
पँ अभिषेक कुमार
   9472998128

Comments

Popular posts from this blog

*खुद का घर कब और कैसा होगा-*

वास्तु दोष -के निवारण जाने,,,, कैसे करते हैं।

शिव भक्त राहु